कंप्रेस्ड बायोगैस आने वाले भविष्य में पेट्रोल और डीजल का सस्ता और पर्यावरण अनुकूल विकल्प है। इसके निर्माण में प्रदूषण नहीं होता, जिससे ये पर्यावरण अनुकूल गैस बनती है। इसे देखते हुए स्वच्छ ईंधन ऊर्जा कंपनी नेक्सजेन एनर्जिया ने सकारात्मक कदम उठा रही है। भविष्य के ऊर्जा क्षेत्र में बेहतर वितरण के उद्देश्य से नई दृष्टिकोण को अपनाते हुए नेक्सजेन एनर्जिया आगे बढ़ रही है।

दरअसल नेक्सजेन एनर्जिया का मानना है कि युवा एंट्रप्रेन्योर को अवसर उपलब्ध कराए जाएं ताकि उन्हें रोजगार के बेहतर मौके मिलें। इस विचार के जरिए देश के युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने में भी मदद मिलेगी, जिससे केंद्र सरकार के आत्मनिर्भर अभियान को बढ़ावा दिया जा सकेगा।

नेक्सजेन एनर्जिया की मदद से एंट्रप्रेन्योर सीबीजी प्लांट लगा सकते है। इस पूरी प्रक्रिया में कंपनी की तरफ से एंट्रप्रेन्योर को हर तरह की मदद मुहैया कराई जाएगी। एंट्रप्रेन्योर की हर परेशानी का वन स्टॉप सॉल्यूशन बनकर नेक्सजेन एनर्जिया उभरी है।

नेक्सजेन एनर्जिया सीबीजी (कंप्रेस्ड बायोगैस) प्लांट लगाने के लिए एंट्रप्रेन्योर को जुड़ने का मौका दे रही है। इसके लिए एंट्रप्रेन्योर के पास कैपिटल और लैंड का होना जरुरी है। प्लांट लगाने के इच्छुक एंट्रप्रेन्योर 4.99 करोड़ की शुरुआती कीमत के साथ प्लांट लगाना शुरू कर सकते हैं। आमतौर पर एक प्लांट लगाने के लिए कम से कम एक से दो एकड़ की भूमि की आवश्यकता पड़ती है। इतनी जगह और इतनी राशि के साथ एक प्लांट की शुरुआत की जा सकती है, जिसके बाद एंट्रप्रेन्योर को जल्द ही कमाई होने लगती है। हालांकि प्लांट पूर्ण रूप से शुरू होने से पूर्व सरकारी विभागों से कई एनओसी लेने की जरुरत होती है जिसमें नेक्सजेन एनर्जिया हर एंट्रप्रेन्योर की पूरी मदद के लिए तत्पर रहती है।

नेक्सजेन एनर्जिया के प्लान के जरिए न्यूनतन इनवस्टमेंट कर एंट्रप्रेन्योर सीबीजी प्रोडक्शन प्रोजेक्ट की शुरुआत कर सकता है। इस प्लांट की शुरुआत के बाद एंट्रप्रेन्योर को कैपिटल सब्सिडी, प्रोडक्शन बायबैक, टैक्स लाभ जैसी कई सहूलियतें सरकार द्वारा दी जाती है। इन सभी की जानकारी खुद नेक्सजेन एनर्जिया एंट्रप्रेन्योर को देती है, ताकि फ्रेंचाइजी खोलने वाले एंट्रप्रेन्योर को परेशानी का सामना ना करना पड़े।

सरकार से मिलती है पूर्ण मदद

सीबीजी से होने वाले फायदों को देखते हुए केंद्र सरकार और राज्य सरकारें भी इस प्रोजेक्ट को भरपूर समर्थन दे रही है। सरकार की तरफ से एंट्रप्रेन्योर को प्लांट लगाने के बाद टैक्स बेनेफिट, जीएसटी लाभ, सरकारी योजनाओं का लाभ मिलता है। सरकार ने सीबीजी को बढ़ावा देने के लिए जैव ईंधन योजना 2018 को भी मंजूरी दी है, जिसके जरिए आने वाले वर्षों में ये सेक्टर बूम होगा।

जानें प्लांट लगाने के फायदे

सीबीजी प्रोडक्शन के प्लांट लगाने वाले एंट्रप्रेन्योर या उद्यमी को न्यूनतम कीमत पर नया बिजनेस शुरू करने का मौका मिलता है। इस फील्ड में प्लांट लगाने के फायदे हैं कि ये बिजनेस जीवनभर तक कार्य करेगा और एक्टिव रहेगा, जिससे आमदनी होना निश्चित है। इस बिजनेस को वर्षों बाद एक परिवार भी चला सकता है। इस बिजनेस आइडिया से जुड़ने पर किसी तरह के वैश्विक आर्थिक स्थिति जैसे आर्थिक मंदी का असर नहीं होता है। ऐसे में एंट्रप्रेन्योर को पैसा डूबने या नुकसान झेलने की चिंता से मुक्ति मिलती है।

एनजीई ऐसे करेगी सपोर्ट 

एनजीई इस प्रोजेक्ट के जरिए एंट्रप्रेन्योर को प्लांट में बन रहे हर फाइनल प्रोडक्ट की प्रोडक्शन बायबैक की सुविधा देती है। कंपनी फाइनल उत्पाद की कीमत पहले ही तय कर उत्पाद को एंट्रप्रेन्योर से खरीदेगी जिससे एंट्रप्रेन्योर को माल बेचने की परेशानी से दूर रहना होगा। एंट्रप्रेन्योर के प्लांट और उसमें बनने वाले उत्पाद की ब्रांडिंग और मार्केटिंग में भी नेक्सजेन एनर्जिया अहम भूमिका निभाएगी। सेल्स और डिस्ट्रीब्यूशन के लिए भी एंट्रप्रेन्योर की मदद होगी।

इन राज्यों में बन रहे प्लांट्स

देश में कई राज्यों में एनजीई के सपोर्ट से वर्ष 2027 तक 1000 सीबीजी प्लांट्स स्थापित किए जाने हैं। इसमें उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश शामिल हैं। इन राज्यों में सीबीजी प्लांट्स में कृषि वेस्ट, ऑर्गेनिक वेस्ट, मवेशियों के वेस्ट आदि को मिलाकर सीबीजी का निर्माण किया जाएगा। बता दें कि जिन राज्यों में प्लांट्स लगाए गए हैं वहां बड़े स्तर पर कृषि की जाती है, जिसकी मदद से प्लांट्स में बड़े स्तर पर प्रोडक्शन किया जा सकता है। cng/cbg pump franchise

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *